केरल में बारिश का कहर जारी, 71 लोगों की मौत सभी जिलों में रेड अलर्ट घोषित

केरल में बारिश का कहर जारी, 67 लोगों की मौत; सभी 14 जिलों में रेड अलर्ट घोषित

राज्य के सभी 14 जिलों में रेड अलर्ट घोषित किया गया है। दक्षिणी रेलवे और कोच्चि मेट्रो ने गुरुवार को अपनी सेवाएं निलंबित कर दी हैं। राज्य सरकार ने सभी स्कूलों और कॉलेज को शनिवार तक बंद रखने का आदेश दिया है और इस दौरान होने वाली सभी परीक्षाओं को भी रद कर दिया गया है। राज्य में इससे पहले 1924 में बाढ़ से ऐसी ही तबाही मची थी।

राज्य के मुख्यमंत्री ने ट्विटर पर कहा है, ‘वर्तमान में राज्य के 35 जलाशयों से पानी छोड़ा जा रहा है। राज्य के कई जिले बाढ़ की चपेट में हैं।’मौसम विभाग ने शनिवार तक राज्य में भारी बारिश होने की चेतावनी दी है। पिछले सप्ताह बारिश और बाढ़ की चपेट में आने से सैकड़ों घर तबाह हो गए।

71 लोगों की मौत हो गई हैं और साले और कॉफी के लिए मशहूर इस राज्य की फसलें भी तबाह हो गई हैं। केरल राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मई से राज्य में 200 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और बड़ी संख्या में विस्थापित हुए हैं। रात 2:35 पर मुल्लपेरियार बांध का गेट खोलने के बाद इडुक्की जिले में अधिकारी सतर्कता बरत रहे हैं। इस बांध में पानी 140 फीट का स्तर पार कर गया। बांध के आसपास रहने वाले लोगों को मंगलवार को ही दूसरी जगह ले जाया गया। एक अनुमान के मुताबिक 50,000 लोगों को राहत शिविरों में रखा गया है और 8,000 करोड़ रुपये की फसलें और संपत्तियां तबाह हो चुकी हैं।

केरल में 60 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से चल रही तेज हवाएं

तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, अलप्पुझा, पठनमित्ता, कोट्टायम, इडुक्की, एर्नाकुलम, थ्रिसूर और कोझिकोड में 60 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से तेज हवाएं चल रही हैं। इडुक्की में मुल्लापेरियर बांध में पानी का स्तर बढ़ने से इलाके में समस्या गंभीर होने लगी है। पेरियार नदी के पास से करीब 4000 परिवारों को राहत शिविरों में ले जाया जा चुका है। उधर, एर्नाकुलम में 17,974 लोगों को 117 राहत शिविरों में ले जाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *